एन्क्रिप्शन क्या होता है? | Encryption Meaning In Hindi

Encryption Meaning In Hindi: दोस्तो आज के समय में अधिकतर लोग अपना समय ऑनलाइन इन्टरनेट अथवा सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सएप फेसबुक जेसे बिभिन प्लेटफॉर्म पर बिता रहे हैं। और ऐसे में हैकर्स द्वारा डाटा चोरी का क्राइम काफी हद तक बढ़ चुका है।

दोस्तो कुछ समय पहले एक समय था जब चोर लोगो के घरों में जाकर चोरिया करते थे दोस्तो लेकिन अब ऐसा बिलकुल नही रहा। आजकल जदातर चोरिया , स्कैम्स और फ्रॉड ऑनलाइन हैकर्स द्वारा कंप्यूटर के मदद से इन्टरनेट पर किया जा रहा है। दोस्तो हैकर्स अपका डाटा चोरा कर बहुत सारे गलत काम कर सकते हैं जेसे सपोज अपका व्हाट्सएप का पर्सनल मैसेज हैकर्स द्वारा पढ़ लिया जाए तो वो आपको कभी दिक्कत में डाल सकता है।

दोस्तो इसलिए डाटा चोरी के समस्या से बचने के लिए Encryption लाया गया है। आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं की एन्क्रिप्शन क्या है। ( Encryption Meaning In Hindi ) और इसका इस्तेमाल कैसे और कहा किया जाता है।

Encryption Meaning In Hindi

एन्क्रिप्शन का हिंदी मतलब क्या होता है? | Encryption Meaning in Hindi

तो दोस्तो सबसे पहले मैं आपको अंग्रेजी शब्द Encryption का हिंदी में क्या मतलब होता है ये बताना चाहूंगा। तो दोस्तो Encryption का हिंदी में मतलब होता है कूट लेखन। अगर इसको सरल भाषा में बोला जाए तो encryption का मतलब किसी भी information या डाटा को सिक्योर करने के लिए किसी सीक्रेट कोड में बदल देना।

Encryption कोड में कन्वर्ट करना। आमतोर पर किसी भी डाटा या इन्फॉर्मेशन को अनधिकृत एक्सेस से रोकने के लिए।

एन्क्रिप्शन क्या होता है? | What is Encryption in Hindi

Encryption एक तरह का प्रोसेस है जिसमे डाटा फाइल और इन्फॉर्मेशन को को unreadable फॉर्म में एलोगोथिम के जरिए कनवर्ट किया जाता है। इससे कोई भी unauthorise यूज़र उस कवर्टेड डाटा को पढ़ नही पाएगा। सरल भाषा में बोले तो अगर किसी भी डाटा फाइल या information को कोड फॉर्म में कन्वर्ट कर दे तो वो encryption कहलाता है

एक बार इंफॉर्मशन या डाटा में encryption लग जाए तो उसके बाद उस डाटा को सिर्फ वाही इंसान इसको खुल कर पढ़ सकता है जिसके पास इसका Password या फिर dycryption key हो। किसी भी जानकारी या फाइल में encryption लगाने के बाद उसे Ciphertext कहते हैं जबकि encryption के पहले वाले जानकारी को Plaintext कहा जाता है।

दोस्तो डाटा को encrypt और decrypt करने को इस पूरे प्रोसेस को सिंपल वर्ड्स में क्रिप्टोग्राफी (cryptography) कहते हैं। दोस्तो इस cryptography तकनीक को इसलिए लाया गया है ताकि किसी भी दो इंसानों द्वारा डाटा फाइल या कोई भी जानकारी को साझा करते समय कोई हैकर या कोई दूसरा इंसान इस जानकारी को ना पढ़ और देख सके

दोस्तो cryptography का इस्तेमाल क्रेडिट और डेबिट कार्ड कंपनियों द्वारा भी किया जाता है ताकि वो अपने कार्ड्स के नंबरों को प्रोटेक्ट कर सके। दोस्तो साथ ही साथ मैं आपको बता दूं कि cryptography भी अलग अलग तरह की होती है।

डिक्रिप्शन क्या होता है? | Decryption Meaning In HIndi

दोस्तो Decryption वह प्रोसेस है जिसमे हम उस encrypted file या डाटा को Decode कर के उसके सही रूप में फिर से वापस लाते हैं। ताकी उसे फिर से पहले की तरह यूज में ला सके और उस डाटा को पढ़ सके।
Encrypted file या डाटा को Encryption के समय इस्तेमाल की गई key के मदद से डिक्रिप्ट या फिर इसे manully De-Encrypt किया जाता है।

एन्क्रिप्शन का उपयोग कहाँ होता है?

दोस्तो हम अपने डेली लाइफ में प्रतिदिन Encryption का प्रयोग करते हैं लेकिन हमे बिलकुल भी पता नही चलता इसके बारे में क्युकी हमारे कंप्यूटर और मोबाइल्स अपने आप ही इस प्रोसेस को कर रहे होते हैं।

दोस्तो चलिए देखते हैं की इसका daily लाइफ में हम Encryption को जाने अनजाने में कहा कहा उपयोग कर रहे होते हैं।

File Storage: दोस्तो आज कल लोग ऑनलाइन मीडिया स्टोरेज का काफी इस्तेमाल करने लगे हैं जैसे Mega, Dropbox, Google Drive file स्टोरेज Plateform काफी चलन में है इन सबमें भी फाइल की सुरक्षा के लिए Encryption का इस्तेमाल किया जाता है।

ATM: दोस्तो अपने तो Atm का इस्तेमाल किया ही होगा। So जब आप ATM से पैसे निकाल रहे होते हो वहा भी आपके डाटा को secure रखने के लिए encryption का प्रयोग होता है साथ ही साथ Atm के सारे transactions encrypted होते हैं। ताकी कोई आपके पैसे के साथ छेड़ छाड़ ना कर सके।

Email: दोस्तो जब आप किसी को ईमेल भेजते हो या फिर किसी से ईमेल प्राप्त करते हो यानी इमेल का आदान-प्रदान करते हो तब ईमेल की जानकारियों को safe रखने के लिए भी encryption का ही प्रयोग होता है।

Website: दोस्तो आप दिन भर में न जाने कितने वेबसाइट्स विजिट करते होगे जेसे गूगल, यूटयूब , फेसबुक इन साइट के url के शुरू में https लिखा होता है इसका मतलब Hypertext Transfer Protocol होता है जो की वेबसाइट सिक्युरिटी के लिए encryption का प्रयोग करता है।

Social Media Apps: दोस्तो encryption का उपयोग सिर्फ वेवसाइट में ही नही बल्कि दूसरे plateform पर भी होता है जेसे Android Apps। आपके फोन में व्हाट्सएप तो होगा ही ये भी calls और मैसेजेस के लिए encryption का इस्तेमाल करते हैं।

दोस्तो लगभग हर रोज हम Encryption को ना जाने कई तरीकों से इस्तेमाल करते आ रहे हैं। दोस्तो इन सब के अलावा Crytography का इस्तेमाल काफी Plateforms में किया जाता है।

एन्क्रिप्शन का महत्व | Importance of Encryption in Hindi

दोस्तो आज के समय में जब ऑनलाइन scamming और इंटरनेट फ्रॉड होने के case दिन बा दिन बढ़ रहे हैं और कई खतरनाक हैकर्स आपके डाटा को चुराने के लिए घात लगाकर इंटरनेट पर बैठे हुए हैं तो ऐसे में आपको अपनी जानकारी को सिक्योर करने के लिए Encryption का प्रयोग करना बहुत ही जरूरी हो गया है। एन्क्रिप्शन के महत्त्व को विभिन्न मुद्रु पर नजर डालकर समझा जा सकता है।

1. डाटा की सुरक्षा | Security of Data

किसी भी डिवाइस जेसे हार्डडिस्क (Hdd ), Sdd और ऑनलाइन cloud based स्टोरेज में जानकारी को सुरक्षित करने की बात आए तो इसके लिए encryption method इस्तेमाल किए जाने वाला सबसे उपयोगी तरीका है। दोस्तों suppose अगर अपने एन्क्रिप्शन अपने डाटा को सेव करने के लिए encryption method का इस्तेमाल किया है तो अगर आपका डिवाइस खो भी जाता है तो उसमे उपस्थित आपकी फाइल्स और दूसरी जानकारियां सुरक्षित होती है। और तो और दो लोगों के बीच डाटा इंफॉर्मेशन ट्रांसफर करने की स्थिति में भी कोई तीसरा इंसान डाटा को बीच में से चुरा ना ले इसके लिए भी encryption method का प्रयोग होता है।

2. डेटा की गोपनीयता | Privacy Of Data

दोस्तो अगर आपका डिवाइस अन्य लोगों के द्वारा भी इस्तेमाल किया जाता है तो ऐसे में आपके किसी जरूरी डाटा या फाइल को सिक्योर रखने के लिए आप अपने उस डाटा को एन्क्रिप्ट कर के रख सकते हैं। इस method का उपयोग करने के बाद आपको अपने पूरे डिवाइस को लोक करने की आवश्कता नहीं होगी। और आपको अपने निजी फाइल्स की सिक्युरिटी भी बनी रहेगी।

3. डेटा की अखंडता | Integrity of Data

दोस्तो Encryption Method ना केवल डाटा को secure रखता है बल्कि ये इस बात को भी सुनिस्चित करता है की पहले यूजर द्वारा किसी दूसरे यूजर को भेजी गई डाटा फाइल्स original हैं और इसमें किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया गया है।

एन्क्रिप्शन के प्रकार | Types of Encryption in Hindi

दोस्तो मैं आपको बताऊंगा की एन्क्रिप्शन कितने तरह के होते हैं। तो दोस्तो ये मुख्या रूप से दो प्रकार का होता हैं। पहला Symmetric Encryption और दूसरा Asymmetric Encryption। चलिए अब में आपको इनके बारे एक-एक कर के विस्तार में बताता हूं।

1. Symmetric Encryption in Hindi

Symmetric Encryption Hindi

दोस्तो Symmetric Encryption प्रोसेस में डाटा या information को एन्क्रिप्ट करने के लिए और उस information को डिक्रिप्ट करने के लिए दोनों के लिए एक ही key होती है। Encryption और Decryption दोनो के लिए एक ही key होने के वजह से एन्क्रिप्शन की इस प्रोसेस में डाटा फाइल या information को एन्क्रिप्ट करने वाले यूजर को Encryption key हर एक उस यूजर के साथ शेयर करना पड़ता है जिसके साथ भी वह ये डाटा शेयर करना चाहता है। इस कारण एन्क्रिप्शन की इस प्रोसेस को Shared Encryption भी कहा जाता है।

2. Asymmetric Encryption in Hindi

Asymmetric Encryption की प्रोसेस में दो key सामिल होता है पहले key से डाटा को एन्क्रिप्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और दूसरे key को डाटा को डिक्रिप्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में एन्क्रिप्शन करते समय जो key सामिल होता है वो यूजर अपने पास रखता है और decryption वाली key publicly को उन लोगों के साथ शेयर किया जाता है जिनको वह डाटा शेयर चाहता है।

एन्क्रिप्शन की इस प्रोसेस को Public key Encryption भी कहा जाता है। दोस्तो अपने देखा होगा की वेबसाइट के Url में Http होता है उस http को Https में बदलने वाली SSL (Secure Socket Layer) में भी इसी Encryption key का प्रयोग किया जाता है।

एन्क्रिप्शन के उदहारण | Examples of Encryption in Hindi

दोस्तो ऐसे तो Encryption के कई सारे उदाहरण उपस्थित है। लेकिन आज आपको उनमें से कुछ उदहारण बताउंगा।

1. Field-level Encryption

दोस्तो किसी भी एक पार्टिकुलर फील्ड को encrypted करने के लिए Field level Encryption का प्रयोग किया जाता है। दोस्ती ऑनलाइन इंटरनेट पर किसी भी वेबसाइट में लॉगिन करते टाईम पासवर्ड के स्थान में Field-level Encryption को इस्तेमाल किया जाता है।

इसके कारण ही आपके पासवर्ड डालते ही आपका पासवर्ड कोड फॉर्म में कनवर्ट हो जाता है। और दोस्तो यहा तक की अगर आप ऑनलाइन किसी इकॉमर्स या किसी शॉपिंग साइट में अपना महपूर्ण जानकारी जेसे की डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड अथवा बैंक अकाउंट नंबर डालते हैं वह स्थान पर भी फील्ड लेवल एन्क्रिप्शन का ही उपयोग होता है।

2. End-to-end encryption (E2EE)

दोस्तो End-to-end Encryption जो की Asymmetric एन्क्रिप्शन का ही एक प्रकार है। इस method से मैसेजेस को ऐसे एन्क्रिप्ट किया जाता है की इसे भेजने वाले सेन्डर और रिसीवर के अलावा कोई तीसरा व्यक्ति इसे पढ़ नही सकता फिर चाहे वो फिर खुद उस मैसेज को भेजने वाली कंपनी या फिर सरकार ही क्यों ना हो।

End-to-end encryption मैसेज भेजने की सबसे सुरक्षित इस्तेमाल किया जाने वाला method है। दोस्तो watsapp messenger भी मैसेजेस भेजने के लिए End-to-end encryption method का ही इस्तमाल करता है। और whatsapp End-to-end Encryption का सबसे बड़ा उदहारण है।

3. Network-level encryption

दोस्तो Network-level Encryption में डाटा को इस तरीके से एन्क्रिप्ट किया गया होता है की उसे एक specific नेटवर्क के लोग ही डिक्रिप्ट कर सकेंगे। दोस्तो इस प्रोसेस में विभिन्न प्रकार के टूल्स और तकनीक का उपयोग करना पड़ता है। और यहा तक की इसमें एन्क्रिप्शन के दो या दो से ज्यादा algorithm का भी प्रयोग किया जाता है इसलिए क्योंकि ये सुनिश्चित किया जा सके की भेजी गई जानकारी ठीक तरीके से एन्क्रिप्ट हो गई हो और रिसीवर तक बिना किसी नुक्सान के पहुंचाई जा सके। दोस्तो IP बेस्ड नेटवर्क में भी encryption का ही उपयोग किया जाता है।

एन्क्रिप्शन से होने वाले फायदे | Advantages of Encryption in Hindi

1. दोस्तो Encryption method किसी भी important जानकारी को एक जगह से दुसरे जगह पर safety के साथ पहुंचाने के लिए एक कारगर तरीका है।

2. दोस्तो कोई सा भी डिवाइस हो उसमे हम फाइल्स की प्राइवेसी के लिए encryption method का प्रयोग कर सकते है।

3. किसी भी प्रकार का कोई सा भी डाटा या जानकारी की authenticity (सत्यता) को जागरूक रखने के लिए encryption सबसे अच्छा तरीका है।

4. डाटा करप्शन, इंटीग्रिटी अटैक , ransomware और भी कई चीजों से बचने के लिए एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल होता है।

एन्क्रिप्शन से होने वाले नुकसान | Disadvantages of Encryption in Hindi

1. दोस्तो अगर एक बार किसी डाटा को encrypt कर दिया जाए उसके बाद उसे Decryption Key के द्वारा से ही खोला जा सकता है। और अगर अपने उस key को कही गुम या अगर आप गलती से भूल जाओ तो ऐसे case में आप अपना डाटा loss कर सकते हो।

2. दोस्तो End-to-end Encryption का उपयोग करके कोई भी यूजर अपनी गुपनिया जानकारी को एक जगह से दुसरे जगह तक पंहुचा सकता है। तो दोस्तो अब क्युकी यह जानकारी मैसेज भेजने वाली कंपनी, सरकार या कोई भी दूसरा इंसान नहीं पढ़ सकता तो इसके कारण कुछ बुरे लोग जेसे आतंकवादी इसका उपयोग कर सकते हैं

समाप्ति

तो दोस्तो ये थी कुछ Encryption से जुड़ी उपयोगी और महत्पूर्ण जानकारियां। मैं आशा करता हूं की आपको एन्क्रिप्शन क्या है इसका मतलब क्या होता है इसका इस्तेमाल कहा होता है आपको पता चल गया होगा। दोस्तों आपको ये जानकारी (Encryption Meaning in Hindi) कैसी लगी मुझे इस आर्टिकल के नीचे कमेंट कर कर के जरूर बताना और आपको ये आर्टिकल पसंद आया होतो प्लीज अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करे। और हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here