C Programming Language क्या है (What is C Language)

हेल्लो दोस्तो आज के इस लेख में आपको बताऊंगा कि C Language Kya Hai और यह किस काम आता है। अगर आपको कंप्यूटर रिलेटेड Courses में रूचि है तो यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकती है।

C Programming Language क्या है

सी प्रोग्रामिंग क्या है – What is C Language in Hindi

C भाषा एक general purpose programming language है, इसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के एप्लिकेशन बनने में होता है। C language के माध्यम से हम कई प्रकार के सॉफ्टवेयर तथा इसके साथ ही हम Windows और IOS के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित कर सकते हैं। C भाषा का प्रोग्राम आप अलग अलग कंप्यूटर तथा लैपटॉप में Run कर सकते हैं क्यूकी C एक Machine Independence structured programming language है।

C भाषा को Middle Level Programming Language माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योकि C language में Low Level तथा High Level Language दोनो की खूबियां है, जैसे- C भाषा के प्रोग्राम को हम accembly code में बदला जा सकता है। C language को विशेष तौर पर एक सिस्टम प्रोग्रामिंग भाषा के मध्य में बनाया गया है।

C एक बेहद ही पुराना प्रोग्रामिंग Language है, लेकिन लोग इसको आज भी इसके flexible, simple और popular होने के वजह से बेहद इस्तेमाल करते हैं। C भाषा को compiled language का दर्जा दिया गया है अगर अपने C भाषा में किसी प्रोग्राम को लिखा है तो इसे executable बनाने के लिए आपको C compiler में एक बार run करना होगा, तकी कंप्यूटर इसे समझ कर run कर सके।

C भाषा को बहुत से लोग computer programming language के नाम से भी जानते हैं। दोस्तो C भाषा में बनाय हुुआ प्रोग्राम काफी portable होता है। इसका अर्थ ये हुआ कि, C भाषा में लिखा हुआ source code को हम बिना किसी बदलाव के किसी अन्य operating system में run करा सकते है।

दोस्तो अगर आप ग्राफिक्स realted सॉफ्टवेयर जैसे लैपटॉप तथा स्मार्टफोन games तथा language interpreters, embedded systems, assemblers बनाना चाहते हो तो इसके लिए भी C भाषा का प्रयोग होता है।

C Language का इतिहास – History of C Language

C Language कि history कि बात करे तो C Language सन 1972 में Dennis Ritchie के माध्यम से AT and T (American Telephone & Telegraph) के bell laboratories में विकसित की गई थी। शुरू के दिनों में C भाषा को UNIX operating system में इस्तेमाल करने के लिए विकसित किया गया था।

सन् 1972 से कुछ सालो पहले 1967 में, Basic Combined Programming Language नामक एक प्रोग्रामिंग भाषा को विशेष रूप से सिस्टम सॉफ्टवेयर बनने के लिये develop किया गया था। इसके कुछ ही समय बाद B नमक एक नई लैंग्वेज बनाई गई, B language के माध्यम से UNIX Operating सिस्टम के शुरुआती प्रकाशन बनाया गया था।

B तथा BCPL भाषा का ही C एक मेल जोल रूप है यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रोग्राम की coding C लैंग्वेज में किया गया था, Brian Kernighan और Dennis Ritchie जी ने एक Book लिखी “The C Programming Language” इस book के प्रकाशित होने के बाद C भाषा लोगो में बहुत पॉपुलर हुआ।

C Language का उपयोग कहा किया जाता है

C भाषा का प्रयोग कई जगहों पर होता है शुरू में C Programming का इस्तेमाल system development से जुड़े कामो में किया जाता था। लेकिन आज इसके features के कारण इसका इस्तेमाल विभिन्न विभागों में होता है, जैसे –

  1. Application Software
  2. Network Driver
  3. System Software
  4. Database
  5. Compilers
  6. Operating System

Application Software

C भाषा का प्रयोग Application software बनाने में भी किया जाता है यह Commonly end user के माध्यम द्वारा प्रयोग होने वाला program अथवा collection of program होता है दोस्तो end user उन्हें बोला जाता है जो हार्डवेयर तथा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स बनने के बाद उनका प्रयोग करता है इस भाषा के माध्यम से spreadsheet तथा database से application तेयार किए जाते हैं।

Network Driver

Network ड्राइवर का प्रोग्राम लोग आमतौर पर C भाषा में ही लिखते हैं। दोस्तो नेटवर्क driver का काम यह होता है कि ये कंप्यूटर के नेटवर्क device को operating system अथवा विभिन्न नेटवर्क device के साथ संचार प्रदान करते हैं।

System Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर लैपटॉप तथा कंप्यूटर प्रोगाम को कहा जाता है, जिसको सिस्टम के प्रोग्राम्स और हार्डवेयर को run करने के लिए विकसित किया जाता है C Programming के मदद से हम सिस्टम compiler तथा ऑपरेटिंग सिस्टम्स बना सकते हैं।

Database

डेटा के Systematic Collection को Database बोलते हैं। इसका काम data management को आसान करना अथवा systematic करना करने में मदद करता है। दोस्तो MS SQL, MySQL और Oracle जो कि DBMS Software हैं और इन में भी C Programming का इस्तेमाल किया गया है।

Compilers

Compiler एक प्रकार का सॉफ्टवेयर based प्रोगाम होता है इसका काम programming language के instructions को process करना होता है यह पहले उन प्रोग्राम्स को machine language में बदलता है जिससे कंप्यूटर CPU के लिए उसको समझना आसान हो जाता है।

Operating System

जैसा की आप जानते हो कि ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने के लिए भी C Programming का प्रयोग किया जाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम एक प्रकार का कंप्यूटर सॉफ्टवेयर होता है जो कि हार्डवेयर को संचार करता है और यूजर को कंप्यूटर तथा अन्या device में application तथा अन्य सॉफ्टवेयर चलने की परमीशन देती है।

C Language की सुविधाएं – Features of C Language

  1. दोस्तो C language का प्रयोग low level तथा high level programming दोनो के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है जिसके वजह से इसे Mid level programming language कहा जाता है।
  2. C language में कई तरह के functions तथा data type उपस्थित हैं जिसके कारण लोगो में यह काफी लोकप्रिय है और साथ ही यह बहुत ही सरल language है उसके साथ ये पावरफुल language भी है।
  3. C language एक machine independent language है assembly language के भिन्न C language के program को अलग – अलग  मशीनों पर इस्तेमाल किया जा सकता है।
  4. C भाषा का प्रोग्राम portable होता है जिसके कारण इसे किसी भी compiler में run करा सकते हैं।
  5. C programming language के standard version में total 32 keywords हैं जिसको आप काफी सरलता से याद रख सकते हो।

समाप्ति – Conclusion

तो दोस्तो ये थी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी कि C Programming Language क्या है तो मुझे आशा है कि आपको C भाषा के बारे में जानकारी मिल गई होगी, और आपका अभी भी कोई सवाल है तो आप हमसे कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ Share करे

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here