SIM Vs E-SIM: क्यों ई-सिम का इस्तेमाल है जरूरी, कैसे करें इस्तेमाल?

आने वाले दिनों में नॉर्मल फिजिकल सिम बंद हो जाएंगे। फिजिकल सिम की जगह जल्द ई-सिम ले लेंगे।

ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर क्यों ई सिम की जरूरत पड़ रही है। जबकि सारे काम फिजिकल सिम से हो रहे हैं।

साथ ही ई-सिम और फिजिकल सिम में क्या अंतर है। आइए इन सारे सवालों के जवाब ढूढ़ने की कोशिश करते हैं...

आमतौर पर सिम एक छोटा प्लास्टिक कार्ड होता है, जो कुछ मेटल पार्टिकल से मिलकर बना होता है।

इसमे सब्सक्राइबर्स की जानकारी होती है। मोबाइल सिम कार्ड में मोबाइल नंबर होता है, जिससे आप कॉल कर पाते हैं।

साथ ही फोन पर कॉल रिसीव करने से लेकर टेक्स्ट और डेटा एक्सेस कर पाते हैं। सिम कार्ड में कॉन्टैक्ट,

फोन नंबर स्टोर होता है। जिसे आसानी से सिम को एक फोन से दूसरे फोन में ट्रांसफर कर पाते हैं।

ई-सिम आपके फोन में मौजूद एक छोटी चिप होती है, जिसे फोन से हटाया नहीं जा सकता है। ऐसा माना जा रहा है

कि जल्द ही ई-सिम प्लास्टिक सिम की जगह ले लेगा। ई-सिम की मदद से एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क में आसानी से शिफ्ट किया जा सकता है।