ज्यादा सोचना आपके लिए परेशानी की वजह बन सकती है ,इन टिप्स से करें Overthinking कंट्रोल करने की कोशिश

कैसे कंट्रोल करें ओवरथिंकिंग  परेशानी सुलझाने पर करें फोकस   जब आपको लगे कि आप बहुत ज्यादा सोचने लगे हैं, तो बस समस्या को सुलझाने पर ध्यान दें।

ओवरथिंकिंग को खत्म करने के लिए आपको समस्याओं को हल करने के बारे में सोचना होगा और

फिर किसी भी तरह के सवाल को अपने दिमाग में आने से रोकना होगा।  क्या होगा,  कैसे होगा, क्यों होगा, इनमें से कोई भी आपको ज्यादा नहीं सोचना चाहिए।

माइंडफुलनेस   माइंडफुलनेस का मतलब है अपने दिमाग को किसी और चीज पर केंद्रित करना जो आपको किसी तरह का ज्ञान भी दे

और दिमाग को शांत रखे।  इसके लिए आप किताबें पढ़ सकते हैं, पेंट कर सकते हैं या वीडियो देख सकते हैं आदि।  

जब तक आप इन गतिविधियों में लगे रहेंगे, आपका ध्यान इधर-उधर की चीजों से नहीं हटेगा, जो एक अच्छा संकेत है।

चीजों को भुलाने की कोशिश करें   ज्यादातर लोग उन चीजों के बारे में सोचते हैं जो उनके साथ अतीत में हुई थीं।  कहते हैं नहीं,

वे भी जले हुए छाछ को फूंक मारकर पीते हैं।  लेकिन, यह कोई नहीं जानता कि यह अति-सावधानी कब अति-सोच बन जाती है।  आपको खुद को यह

विश्वास दिलाने की जरूरत है कि वही बात जो आपके साथ पहले हुई थी, जरूरी  नहीं कि वह दोबारा हो।  इसके लिए आपको पुरानी बातों को भूलकर आगे बढ़ना  होगा।

एक्सरसाइज आएगी काम   जब आप ज्यादा सोच रहे हों, अगर आप उस समय इन विचारों से दूर रहना चाहते हैं, तो आप व्यायाम या नृत्य करना शुरू कर सकते हैं।

इसका मतलब यह होगा कि आपका मन और शरीर दोनों इस नए काम में व्यस्त रहेंगे और आपके पास ज्यादा सोचने का समय नहीं होगा।