ऑफर में लिया 50 हजार का लैपटॉप, डब्बा खोलते ही निकला घड़ी साबुन, कंपनी ने रिटर्न से किया मना

फ्लिपकार्ट अपने फेस्टिव सीजन सेल को लेकर चर्चा में है।  जहां कंपनी पर पहले iPhone 13 ऑर्डर को रद्द करने को लेकर तंज कसा गया था।

वहीं अब एक नया मामला सामने आया है.  दरअसल, आईआईएम-अहमदाबाद के छात्र यशस्वी शर्मा ने अपने पिता के लिए एक लैपटॉप ऑर्डर किया था।  

लेकिन उसके बाद जब फ्लिपकार्ट ने डिलीवरी दी तो उसमें वॉच डिटर्जेंट के पैक थे।  ऑर्डर बिग बिलियन डेज सेल के दौरान दिया गया था।  

यशस्वी ने ट्विटर पर कहा कि ई-कॉमर्स दिग्गज ने अपनी गलती को सुधारने से इनकार कर दिया है।

वहीं, लिंक्डइन पोस्ट में यशस्वी शर्मा ने कहा कि लैपटॉप की जगह वॉच डिटर्जेंट पैक भेजने के बावजूद फ्लिपकार्ट का कस्टमर सपोर्ट उन

पर आरोप लगा रहा है।  उन्होंने कहा कि उनके पास यह साबित करने के लिए  सीसीटीवी सबूत भी हैं कि वह सच कह रहे हैं लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ!  

साथ ही कहा कि उन्हें ओपन बॉक्स डिलीवरी के बारे में नहीं पता था, इसलिए उन्होंने यह गलती की।  इसके लिए खरीदार को डिलीवरी एजेंट

के सामने पैकेज खोलना होगा और आइटम का परीक्षण करने के बाद ही ओटीपी देना होगा।  शर्मा ने कहा कि उनके

पिता ने मान लिया था कि पैकेज मिलने पर ओटीपी दिया जाना था, जो कि ज्यादातर प्रीपेड डिलीवरी के मामले में होता है।

Flipkart का बयान:  फ्लिपकार्ट ग्राहकों के विश्वास को प्रभावित करने वाली सभी घटनाओं पर जीरो टॉलरेंस की नीति का पालन करता है।

हम अपने ग्राहकों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग अनुभव को बेहतर बनाने के लिए कई चीजें कर रहे हैं।  

इस मामले में ओपन बॉक्स डिलीवरी को चुना गया था।  ग्राहक ने बिना पैकेज खोले ओटीपी को डिलीवरी एक्जीक्यूटिव के साथ साझा किया।  

जैसे ही हमें इस बारे में पता चला, हमने पैसे वापस करने की पहल की।  3 से 4 कार्य दिवसों में पैसा ट्रांसफर कर दिया जाएगा