गगनयान के साथ देश अंतरिक्ष में रचेगा इतिहास, 10 हजार करोड़ का आएगा खर्च, जाने डिटेल्स

भारत जल्द ही अंतरिक्ष में एक बड़े मिशन की तैयारी कर रहा है।  सरकार अपने  महत्वाकांक्षी गगनयान मिशन को 2023 में अंतरिक्ष में लॉन्च

करने की तैयारी कर रही है।  यह इंसानों को अंतरिक्ष में भी भेजेगा।  हाल ही  में केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा  कि

भारत अगले साल तक इंसानों को अंतरिक्ष में भेज देगा।  इस साल के अंत तक इस  संबंध में दो टेस्ट किए जाएंगे।  पहला परीक्षण सिर्फ परीक्षण

होगा, एक मानव रहित वाहन भेजना, जबकि दूसरा एक महिला रोबोट (अंतरिक्ष यात्री) को भेजेगा।  

परीक्षण के नतीजे आने के बाद भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजने पर अंतिम फैसला लिया जाएगा।

इस मिशन में hlvm 3 का इस्तेमाल किया जाएगा।  HLVM3 GSLVMK3 के समान है, लेकिन एक आपातकालीन क्रू एस्केप

सिस्टम के साथ वाहन के शीर्ष में बनाया गया है।  इसलिए इसे GSLV मार्क की जगह HLVM3 नाम दिया गया है।  क्रू एस्केप सिस्टम के ठीक

नीचे ओएम (ऑर्बिटल मॉड्यूल) होगा।  इस ऑर्बिटल मॉड्यूल के दो हिस्से होंगे,  जिसमें ऊपरी हिस्से में क्रू मॉड्यूल और निचले हिस्से में

सर्विस मॉड्यूल होगा।  क्रू मॉड्यूल में अंतरिक्ष यात्री रहेंगे।  इस मिशन  के लिए विभिन्न परीक्षणों की भी योजना है।  इनमें इंटीग्रेटेड एयर ड्रॉप

टेस्ट, टेस्ट व्हीकल मिशन, पैड एबॉर्ट टेस्ट, मानव रहित उड़ान आदि शामिल हैं।  इन सबके बाद अंतत: मानवयुक्त मिशनों को अंतरिक्ष में

भेजा जाएगा।  इसके लिए ISRO ने DRDO की मदद से भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक खास सूट तैयार किया है.