दुनिया के 10 सबसे खतरनाक लड़ाकू हेलिकॉप्टर में से , पहले नंबर वाला भारत के पास है .

युद्ध के मैदान में लड़ाकू हेलीकॉप्टर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।  नजदीकी हवाई सहायता प्रदान करना हो या हमला करना, वे दुश्मन पर

कहर बरपानेकी ताकत रखते हैं।  पहले हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल केवल सैनिकों को युद्ध के मैदान में लाने और ले जाने के लिए किया

जाता था।  वियतनाम युद्ध में, अमेरिकी सैनिकों ने हेलीकॉप्टरों पर मशीनगनें लगाईं और उन्हें लड़ाकू मशीनों में बदल दिया।

तब से लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के विकास की दिशा में काफी काम किया गया है।  अमेरिका, रूस, चीन या भारत दुनिया के तमाम ताकतवर

देशों की वायुसेना में लड़ाकू हेलीकॉप्टर हैं।  ऐसे में सवाल उठता है कि  इनमें से सबसे खतरनाक कौन है?  आइए जानते हैं दुनिया के 9 सबसे

खतरनाक लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के बारे में।  उन्हें उनके प्रदर्शन, मारक क्षमता, रक्षा और एवियोनिक्स के लिए चुना गया है।

AH-64E अपाचे हेलीकॉप्टर को दुनिया का सबसे खतरनाक लड़ाकू हेलीकॉप्टर माना जाता है।  भारत ने अमेरिका से 22 अपाचे हेलीकॉप्टर

खरीदे हैं।  यह हेलफायर 2 एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों से लैस है।  यह मिसाइल फायर और फॉरफोर मोड में काम करती है।  

दूसरे नंबर पर Bell AH-1Z वाइपर है।  इस हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल अमेरिकी सेना के नौसैनिक करते हैं।

इसमें तीन बैरल वाली 20 मिमी की तोप लगी है।  यह एक बार में 16 हेलफायर एंटी टैंक मिसाइलों के साथ उड़ान भर सकता है।

तीसरे नंबर पर रूस में बनी कामोव का-52 होकुम-बी है।  इसे सबसे तेज और सबसे फुर्तीले हेलीकॉप्टरों में गिना जाता है।  

चौथे नंबर पर Mi-28 हैवॉक है।  इसका इस्तेमाल रूसी सेना करती है।  इसे दुनिया का सबसे मजबूत बख्तरबंद हेलीकॉप्टर माना जाता है।

सातवें नंबर पर दक्षिण अफ्रीका का डेनियल एएच-2 रूईवॉक हेलीकॉप्टर है।  यह ZT-6 मोकोपा एंटी टैंक मिसाइल से लैस है।

आठवां हेलीकॉप्टर A129 Mangusta इतालवी कंपनी अगस्ता द्वारा निर्मित है।   इसे सबसे हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टरों में से एक माना जाता है।  इसके पास  अन्य लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की तुलना में कम कवच है।