जीवन में सुखी होना है तो  इन लोगो से दूर रहे, नहीं तो जिंदगी भर भोगना पड़ेगा दुख!

1. दुष्टों के गांव में रहना  आचार्य चाणक्य का अर्थ है कि यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति के पास रहते हैं

जो जानबूझकर दूसरों को चोट पहुँचाता है या परेशान करता है, तो आपको कभी भी उसके पास नहीं होना चाहिए।  

ऐसे लोगों के आसपास रहना आपको हमेशा परेशानी में डालेगा।  उदाहरण के लिए, यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति

के साथ रहते हैं जो हमेशा लोगों के बारे में बुरा सोचता है, तो आप उसके बारे में सोचकर हमेशा परेशान रहेंगे।

2. मूर्ख पुत्र  आचार्य चाणक्य कहते हैं कि मूर्ख या अज्ञानी लड़का भी हमेशा मुसीबत में पड़ जाता है।  

अगर कोई बच्चा कुछ भी नहीं समझता है, तो यह आपको हमेशा परेशान करेगा और

जीवन भर के लिए बोझ होगा।  इसलिए उसे उसकी समझ के अनुसार समझाएं ताकि भविष्य में जीवन में सुधार हो सके।

3. गलत बोलने वाली पत्नी  आचार्य चाणक्य का कहना है कि अगर घर में कोई ऐसी पत्नी हो जो हमेशा आपकी बुराई करती हो,

तो उसका जीवन नर्क के समान होता है।  क्योंकि ऐसी महिलाएं छोटी-छोटी बातों  पर भी झगड़ने लगती हैं, जिससे परिवार में परेशानी होती है और माहौल भी खराब  होता है।

4. गलत लोगों की सेवा आचार्य चाणक्य कहते हैं ऐसे लोग जिन्हें समाज में उचित स्थान नहीं दिया गया है

अगर वे आपसे सेवा तो खूब कराएंगे लेकिन उसका मूल्य नहीं देंगे या फिर आपका अहसान नहीं मानेंगे.

इसका दुख आपको लंबे समय तक रह सकता है. इसलिए ऐसे लोगों से भी दूर रहें.