इस एक गलती से कोई कभी सफल नहीं हो सकता, सफलता के सारे रास्ते बंद हो जाते हैं

Chanakya Niti:   आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति से कई लोगों के जीवन को बदल दिया है।

आचार्य कहते हैं कि यदि आप सफलता प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको अपने मन पर नियंत्रण करना सीखना होगा।  

लेकिन जो मन को नियंत्रित नहीं कर सकता, वह जीवन में कभी भी अपने आप को

सफल नहीं बना सकता।  आचार्य ने चाणक्य नीति में एक श्लोक के माध्यम से कहा है कि,

अनवस्थित यस्य न जने न वने सुखम्, जनो दहति संसर्गात् वनं संगविवर्जनात। 

इस श्लोक के माध्यम से आचार्य ने कहा है कि मनुष्य की एक गलती उसकी असफलता का कारण बन जाती है

और वह गलती उसके मन को नियंत्रित नहीं कर रही है।  यह दोष व्यक्ति को हर तरह की परेशानी में डाल देता है।  

इससे उनका मन किसी काम में नहीं लगता।  ऐसा व्यक्ति बुद्धिमान होते हुए भी मन को स्थिर न

कर पाने के कारण अपनी क्षमता का पूरा लाभ नहीं उठा पाता और सक्षम होने के बाद भी उसे वह नहीं

मिलता जिसके वह हकदार होता है।  ऐसे में वह अपने ही पैर में कुल्हाड़ी मारकर आत्महत्या कर लेता है।