Chanakya Niti: इन 4 हालातों में होता है जान का खतरा, ऐसी परिस्थिति में तुरंत भाग निकलें

आचार्य चाणक्य की नीतियां हमें कठिन परिस्थितयों से बाहर निकलने का रास्ता बताती हैं.  

नीति शास्त्र में मुश्किल हालातों में कैसे समाधान निकाला जाए ये बखूबी बताया गया है. अक्सर विपरीत परिस्थितियों से मुंह 

मोड़ने की बजाय उनका सामने करने की बात की जाती है लेकिन चाणक्य ने ऐसे चार हालात बताएं है जिसमें वहां से  

भागना ही अच्छा होता है. ऐसे समय में साहस काम नहीं आता. इन चार परिस्थितियों का सामना 

करने वाले बुरे फंस सकते हैं यहां तक की जान भी जा सकती हैं. आइए जानते हैं कौन से वो चार हालात. 

चाणक्य ने श्लोक के जरिए बताया है कि अगर कहीं हिंसा भड़क जाए, दंगे हो जाए उस जगह से तुरंत भाग जाना चाहिए.  

उपद्रव में भीड़ बेकाबू होती है, कभी भी हमला कर सकती है ऐसे में वहां से जान बचाकर भागने में ही समझदारी है.  

ऐसी जगह ज्यादा देर तक टिकने पर जान का खतरा तो होता है. साथ ही आप कानूनी कार्यवाही में भी फंस सकते हैं.