पत्नी को कभी नहीं मना करना चाहिए ,अगर पति मांगता है ये चीज , जानिए क्या कहती है चाणक्य निति

प्रेम की चाहत को करें पूरा  पति-पत्नी के बीच प्यार बनाए रखना बेहद जरूरी है।  

कई बार ध्यान न देने से रिश्तों में दरार आ जाती है।  ऐसे में पत्नी को अपने पति पर ध्यान देने की जरूरत है।

आपस में प्यार न हो तो अक्सर लड़ाई-झगड़े हो जाते हैं।  इसलिए पत्नी को हमेशा अपने पति से प्यार दिखाना चाहिए।  

पूरी कोशिश करनी चाहिए कि रिश्ते में कोई खटास न आए।  अतः यदि पति की इच्छा  प्रेम की है तो पत्नी का कर्तव्य है कि वह उसे प्रेम से संतुष्ट करे।

पति की खुशीयों का रखें ख्याल  पति के हर सुख-दुख का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है।  

पति की हर बात का ख्याल रखना पत्नी का फर्ज है।  इसलिए यदि पति कभी दुखी हो तो उसे मनाना चाहिए।

छोटी-छोटी चीजों में खुशी ढूंढने की कोशिश करें।  संबंधों में दरार आ रही हो तो आचार्य के सिद्धांत को अपनाएं

और पति की पीड़ा के कारण का पता लगाकर उसे दूर करें।  अपने पति को खुश रखने की हर संभव कोशिश करें।

पति पत्नी के बीच प्रेम का होना  आचार्य चाणक्य का कहना है कि सुखी वैवाहिक जीवन के लिए पति-पत्नी के बीच प्यार बेहद जरूरी है।  

यदि उनके बीच प्रेम न हो तो उनका परिवार सूखे पत्तों की तरह बिखर जाता है।

दूसरी ओर प्रेम करने वाले पति-पत्नी में उनकी गहराई स्वर्ग के समान हो जाती है।  अगर पति दुखी है और प्यार के लिए तड़प रहा है

तो इसका मतलब यह नहीं है कि पत्नी मुंह फेर ले, बल्कि उसे पति से यह जानने की कोशिश करनी चाहिए कि वह क्या चाहता है।