ये दो गुण मनुष्य को बनाते हैं सफल और महान, जीवन में मिलता है भरपूर सम्मान

चाणक्य नीति कहती है कि व्यक्ति की पहचान उसके गुणों से होती है. गुणों से युक्त व्यक्ति सभी का प्रिय होता है. 

 ऐसे लोग जीवन में सफलता प्राप्त करते हैं. लोगों के जीवन में मान सम्मान की भी कोई कमी नहीं रहती है.  

आचार्य चाणक्य के अनुसार जीवन की सफलता कुछ विशेष गुणों पर भी निर्भर करती है. ये गुण कौन से हैं आइए जानते हैं- 

चाणक्य नीति के अनुसार व्यक्ति को अपनी वाणी पर ध्यान देना चाहिए. वाणी ऐसी बोलनी चाहिए, 

जिसे सुनने से आनंद की प्राप्ति हो. व्यक्ति की वाणी मधुर होनी चाहिए.  

. व्यक्ति की वाणी जब मधुर होती है, तो उसकी बातों को गंभीरता से सुना जाता है. मधुर वाणी दूसरों को प्रभावित करती है.  

मधुर वाणी बोलने वाले व्यक्ति अधिक तरक्की करते हैं. 

ऐसे लोगों को दूसरों का स्नेह और सहयोग भी भरपूर प्राप्त होता है. मधुर वाणी बोलने वाले की शत्रु भी प्रशंसा करते हैं.