Chanakya Niti: अगर आप ये बातें किसी के साथ शेयर करेंगे तो आप हंसी के पात्र बन जाएंगे

Chanakya Niti:   आचार्य चाणक्य ने अपने विचारों को आधार बनाकर नैतिकता का सूत्रपात किया है।

उनकी नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं और मानव जीवन से जुड़े सभी पहलुओं का विस्तार से वर्णन करती हैं।  

ऐसी ही एक नीति में आचार्य चाणक्य ने कहा है कि ऐसी बातें हैं जो मनुष्य को किसी को नहीं बतानी चाहिए।  

अपने घर की बुराई बहा के लोगों के लिए अपना घर कभी खराब न करें।  घर में दोष निकालने से परिवार में कलह आती है, इसलिए

इसे हमेशा आपस में ही सुलझाएं।  शत्रु घर के दोष दूसरों को बताकर इसका  फायदा उठा सकते हैं, साथ ही मान-सम्मान को भी ठेस पहुंचा सकते हैं।

शारीरिक रिश्ते को जगजाहिर न करें अपने शारीरिक संबंध को कभी भी प्रकट न करें।  ऐसा करने से आपका वैवाहिक जीवन खराब हो सकता है।

पति-पत्नी के रिश्ते की बात किसी तीसरे व्यक्ति तक नहीं पहुंचनी चाहिए,  अन्यथा रिश्ते में दरार आ जाती है, वह व्यक्ति समाज में असभ्य की श्रेणी  में माना जाता है।

धर्म चाणक्य के अनुसार दान को सबसे बड़ा धर्म माना गया है और गुप्त दान को सर्वोच्च माना गया है।  गुप्त दान अनेक फल देता है।

धर्म-कर्म के कार्य का उल्लेख करने पर उसका प्रभाव कम हो जाता है।  धर्म का  कार्य सच्चे मन से किया जाता है, उसके साथ कभी भी छेड़छाड़ नहीं करनी  चाहिए।