₹600 पर जाएगा टाटा का यह शेयर, इस खबर के बाद शेयरों को खरीदने की मची होड़

₹600 पर जाएगा टाटा का यह शेयर, इस खबर के बाद शेयरों को खरीदने की मची होड़

टाटा मोटर्स का शेयर (Tata motors) शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में 9% से अधिक चढ़ गया।

टाटा मोटर्स का शेयर (Tata motors) शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में 9% से अधिक चढ़ गया। 

टाटा मोटर्स के शेयर शुक्रवार को BSE पर 9.88% उछलकर 408.85 रुपये पर पहुंच गए थे।

टाटा मोटर्स के शेयर शुक्रवार को BSE पर 9.88% उछलकर 408.85 रुपये पर पहुंच गए थे।  

बता दें कि शेयरों में यह तेजी कंपनी के मार्च तिमाही के शानदार नतीजों के बाद देखने को मिल रही है। एक दिन पहले ही कंपनी ने

बता दें कि शेयरों में यह तेजी कंपनी के मार्च तिमाही के शानदार नतीजों के बाद देखने को मिल रही है। एक दिन पहले ही कंपनी ने 

बताया था कि उसका इंटीग्रेटेड नेट लॉस वित्त वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही में कम होकर 992.05 करोड़ रुपये पर आ गया है। 

बताया था कि उसका इंटीग्रेटेड नेट लॉस वित्त वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही में कम होकर 992.05 करोड़ रुपये पर आ गया है।  

टाटा मोटर्स (Tata Motors) के मुताबिक, कंपनी का घाटा जनवरी-मार्च 2022 तिमाही में पहले से कम होकर 1,032.84 करोड़ रुपये रहा है।

टाटा मोटर्स (Tata Motors) के मुताबिक, कंपनी का घाटा जनवरी-मार्च 2022 तिमाही में पहले से कम होकर 1,032.84 करोड़ रुपये रहा है।  

टाटा मोटर्स को दिसंबर 2021 तिमाही में 1,516.14 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। वहीं,

टाटा मोटर्स को दिसंबर 2021 तिमाही में 1,516.14 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। वहीं,  

पिछले साल की समान तिमाही में कंपनी को 7,605.40 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।  

पिछले साल की समान तिमाही में कंपनी को 7,605.40 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।   

वहीं, एकल आधार पर वाहन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी का नेट प्राॅफिट आलोच्य तिमाही के दौरान घटकर 413.35 करोड़ रुपये पर आ गया।

वहीं, एकल आधार पर वाहन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी का नेट प्राॅफिट आलोच्य तिमाही के दौरान घटकर 413.35 करोड़ रुपये पर आ गया। 

एक साल पहले की इसी अवधि में यह 1,645.68 करोड़ रुपये था। कंपनी ने बताया कि एकल आधार पर उसकी परिचालन आय वित्त वर्ष

एक साल पहले की इसी अवधि में यह 1,645.68 करोड़ रुपये था। कंपनी ने बताया कि एकल आधार पर उसकी परिचालन आय वित्त वर्ष  

2021-22 की अंतिम तिमाही में बढ़कर 17,338.27 करोड़ रुपये हो गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 13,480.42 करोड़ रुपये थी

2021-22 की अंतिम तिमाही में बढ़कर 17,338.27 करोड़ रुपये हो गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 13,480.42 करोड़ रुपये थी